Shri Adalpura Shitla Mata Mandir Chunaar-अदलपुरा शीतला माता मंदिर

 अदलपुरा शीतला माता मंदिर- श्री शीतला माता के चरणों मे  भक्त का सादर प्रणाम, जय हो शीतला माई.


अगर आप माता का दर्शन करना चाहते आप बहुत ही आराम से यहां पर जा सकते हैं. क्योंकि रास्ता काफी अच्छा है, बाइक से आराम से यहाँ पर  जा सकते हैं और चाहे तो चार पहिया वाहन से भी बहुत ही आसानी से जा सकते है.







सबसे अच्छी बात आपको यह लगेगी की ,अदलपुरा शीतला माता मंदिर जाते समय रास्ते में आपको एकदम ट्रैफिक का सामना नहीं करना पड़ेगा। और रोड पर किसी भी प्रकार  गन्दगी या प्रदुषण नहीं दिखयी देगा।  रोड के अगल -बगल आपको देहात की शुद्ध मीठी हरियाली ही दिखायी देगी जो सफर के दौरान मन मोह लेगी। मुग़लसराय से अदलपुरा शीतला माता मंदिर  जाने के लिए सीधे बाईपास  रोड  (विश्व सुंदरी रोड )  पकड़ो और टोल टैक्स तक पहुँचिये ( लगभग २२ से  23 km की दुरी तय करके  ).उसके बाद 4 -5 km की दुरी तय करके बाई और मुड़े और चलते ही जाये। लगभग 15 km की दुरी तय करने के बाद आप शीतला माता धाम पहुंच जायेंगे।

शीतला माई की यात्रा का वीडियो (Video of Sheetla Mai's journey)

   


शीतला माता मंदिर का धाम तय करते समय आपको रास्ते में खाने पीने का सामान मिल जाएगा वह भी बहुत ही आसानी के साथ. जैसे आप व्रत हैं और आप कुछ  खरीदना चाहते चाहते हैं तो आप उसे खरीद सकते हैं. क्योंकि चलते- चलते आपको अधिकतर जगहों पर मार्केट दिख जाएगा. जहां से आप अपनी जरूरत की चीजें खरीद सकते हैं. 


मुगलसराय से अदलपुरा श्री शीतला माता धाम की यात्रा के दौरान आपको रास्ते में 2-4 सिंचाई करने वाली मशीनें भी दिखेंगी. जिनसे पानी निकलता है और लोग अपना सिंचाई का काम करते हैं. आप चाहे तो, रुक कर थोड़ा हाथ- मुंह धोकर फ्रेश हो सकते हैं. 


मैंने अपनी यात्रा के दौरान इस तरह की पानी वाली मशीनों का खूब यूज़ किया है और कई बार रास्ते में रुक कर वहां पर पांच से 10 मिनट तक आराम किया है और आनंद को प्राप्त किया है. 


वैसे आप अगर माता के धाम जा रहे हैं तो बेवजह आपको अपनी गाड़ी नहीं रुकनी चाहिए, इसे निरंतर चलते देना चाहिए जब तक कि बहुत ही ज्यादा जरूरत ना पड़े. एक बार माता का दर्शन मिल जाने के बाद ही आप इधर उधर का काम करें. 


पेट्रोल पंप की व्यवस्था है(The arrangement of petrol pump is )  - 


अगर आप बाइक से जा रहे हैं या चार पहिया वाहन से चाह रहे हैं, और कहीं ना कहीं मन में यह सोच रहे हैं कि अरे यार कहीं तेल खत्म ना हो जाए इसी वजह से पहले ही गाड़ी में तेल भरा लेता हूं. तो ऐसा आपका सोचना बहुत हद तक सही नहीं है. क्योंकि इस रोड पर आपको कम से कम 8 से 10 पेट्रोल पंप मिल जाएंगे. यानी अगर आप मुगलसराय से माता के धाम तक की यात्रा करते हैं तो आपको पेट्रोल पंप की कमी नहीं पड़ेगी. तो पेट्रोल की कोई चिंता नहीं है और ना ही डीजल की कोई चिंता है यह सब आपको मिल जाएगा रास्ते में. 


बनारस से अदलपुरा की यात्रा(Journey from Banaras to Adalpura)-

बनारस से अगर आप अदलपुरा जाना चाहते हैं और माता के दर्शन करना चाहते हैं तो इसका भी रास्ता बहुत ही सरल है. बनारस से होते हुए आप सीधे रामनगर की तरफ आए और रामनगर से बाईपास रोड में मिल जाए उसके बाद आप का रास्ता वही होगा जो मुगलसराय से अदलपुरा का था. इस तरह आप बनारस से भी बहुत ही आसानी से धाम पहुंच सकते हैं. 

टोल टैक्स (toll tax) से आगे बढ़ने पर जो हम left की ओर मुड़ते हैं  और माता के धाम पहुंच सकते हैं. अर्थात कहने का मतलब यही हुआ कि माता का धाम की ओर पहुंचने का कई तरीका है. यह कोई बड़ी समस्या वाली बात नहीं है आप बहुत ही जाएंगे. 


अगर फिर भी आपको रास्ते में कोई दिक्कत होती है तो किसी से भी पूछ ले आपको वहां पहुंचने की जानकारी मिल जाएगी कोई ना कोई आपको बता ही देगा कि आपको माता के धाम कैसे पहुंचना है.

अदलपुरा शीतला माता मंदिर के दर्शन का सूंदर वीडियो (Beautiful video of Adalpura Sheetla Mata Temple Darshan)

           


गाड़ी जमा कर दें (गाड़ी जमा कर दें-)

यदि आप अपने साधन से जा रहे हैं तो माता के धाम पहुंचते ही आपको स्टैंड में अपनी वाहन खड़ी कर देनी चाहिए. इससे आपका वाहन भी सेफ रहेगा और आप चिंता मुक्त होकर माता का दर्शन कर सकेंगे. बाइक खड़ा करने का जो प्राइस है वह मात्र ₹10 है जबकि चार पहिया वाहन खड़ा करने का जो प्राइस है वह 40 से ₹50 के बीच है. तो देखा जाय तो  यह  कोई बहुत ही ज्यादा प्राइस नहीं है. इसे आराम से दिया जा सकता है.


ऐसे दर्शन करें (Have a look like this)

गाड़ी जमा करने के बाद आप मंदिर की ओर चलना शुरू कर दें, Temple की ओर चलते समय जब आप मंदिर के पास पहुंच जाएंगे , सीढ़ियों की मदद से नीचे उतर कर गंगा की तरफ आए, और थोड़ा देर आराम करें लगभग 5 मिनट तक आराम करें ताकि दिमाग शांत हो जाए , 

दिमाग को शांत करना इसलिए जरूरी है क्योंकि माता का दर्शन शांत भाव से करना चाहिए ना कि हड़बड़ी में, दिमाग शांत होने पर आपको अपना हाथ पैर धो लेना चाहिए गंगा माता के पानी से. उसके बाद पुनः ऊपर सीढ़ियों को चढ़ते हुए आना चाहिए. और फूल तथा दूसरे अन्य सामग्री जो पूजा की सामग्री होती है उसे खरीद कर मंदिर की ओर ऊपर चढ़ना चाहिए और फिर माता का दर्शन करना चाहिए. 


नवरात्रि के महीने में यहां  पर काफी ज्यादा  भीड़ लगी रहती है , काफी लंबी लाइन लगती है. आपको दर्शन के लिए कम से कम आधा से 1 घंटा तो खड़ा रहना ही पड़ेगा. इसलिए अगर नवरात्रि के समय आ रहे हैं तो  माइंडसेट अच्छी तरह से सेट करके आइए कि समय तो लगेगा ही. 

शीतला माता पुराने पुल वाली वीडियो सांग (Sheetla Mata Purane Pull wali Video Song)

दर्शन करने के बाद क्या करें(What to do after visiting )-

ज्यादातर युवक और युवतियों में यही देखा गया है कि वह दर्शन करते हैं और तुरंत अपने गंतव्य स्थान की ओर चल देते हैं. जबकि ऐसा करना अध्यात्म की दृष्टि से उतना उचित नहीं माना जाता है. अगर आप माता के दरबार में दर्शन के लिए आए हैं तो माता का दर्शन करें और थोड़ा समय वहां बिताए. कम से कम आधा से एक घंटा तक वहां बैठे और विचार करें. 

इससे क्या होगा कि माता की कृपा आप पर अच्छी खासी बनी ही रहेगी. 

आप चाहे तो सीढ़ियों से उतरकर गंगा के किनारे बैठ सकते हैं वैसे भी वहां बैठने के लिए ढेर सारी चौकी लगी रहती है जो कि लकड़ी की बनी होती है. वहां से बैठकर आप गंगा माता का नजारा देख सकते हैं और जिंदगी की बहुत से पहलुओं को सोच सकते हैं. 


या फिर आप चाहे तो जहां शीतला माता का दर्शन करते हैं वहां बगल में ही एक घेराव टाइप से बना हुआ है वहां पर खड़े होकर आप गंगा माता को देखते रहे और जिंदगी के क्षणों को उसमें महसूस करते रहे. 

कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि यहां पर समय बिताने से आपकी मन की समस्याएं दूर होगी आपको ताजगी मिलेगी और आपका जीवन नए आयाम को छूएगा. 


खरीदारी भी कर सकते हैं (can also shop)-

आपने तो देखा ही होगा कि जैसे ही आप स्टैंड से अर्थात जहां वाहन खड़े होते हैं वहां से जैसे ही आप चलते हैं मंदिर की तरफ तो आपको 7 फीट चौड़ी रोड के अगल-बगल आपको ढेर सारी दुकानें मिलती, जहां पर आप को तरह-तरह के सामान खरीदने को मिल जाएंगे. आप अपनी आवश्यकता अनुसार उन्हें खरीद सकते हैं. 


यह था शीतला माता की यात्रा के बारे में कि कैसे आप यात्रा करेंगे और कैसे दर्शन करेंगे ? 

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आता है तो इसे जरूर जरूर से अन्य भक्त गणों को शेयर करिए. ताकि वह भी माता का दर्शन करें. और जीवन की विभिन्न परेशानियों से वह भी मुक्ति पा सके. तथा माता की कृपा उन पर बनी रहे.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ