मुश्किल के दिनों कैसे अपने आपको संभाले /How to handle difficult days

 अगर आपको अध्यात्म के बारे में जानना है, तो आप हमारे आर्टिकल्स पढ़कर अध्यात्म के बारे में बहुत ही अच्छी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, आपको अच्छा क्या है खराब क्या है सब समझ में आएगा, अगर जिंदगी में चिंता तनाव और थकान से आप परेशान हैं, तो आपको जानकर यह हैरान होगा कि यह सारी चीजें कुछ और नहीं होती है बल्कि आपकी मानसिक थिंकिंग ही होती है, आप चीजों को ठीक ढंग से जब एडजस्ट नहीं कर पाते हैं तो वह सारी चीजें एक चिंता के रूप में आपको दिखाई देने लगती है, इसके अलावा बहुत सारी चीजें हैं जिनसे आप परेशान रहते हैं तंग रहते हैं, क्योंकि आपने उन चीजों के लिए अपने माइंड को बैलेंस नहीं किया है, जबकि आपके पास ढेर सारा पैसा भी होता है और आप शिक्षित भी होते हैं फिर भी आप परेशान रहते हैं, केवल पैसा हो जाने से और भौतिक जगत की शिक्षा प्राप्त कर लेने से आप ज्ञानी नहीं हो जाते हैं, ज्यादातर लोगों के दिमाग में यही होता है कि वह अगर पढ़ लिखकर डिग्री हासिल कर लेते हैं तो वह ज्ञानी हो जाते हैं, जबकि जान बहुत ही दूर रहता है. 

mental-health



ज्ञानी बनने के लिए आपको अथक प्रयास करना पड़ता है, जो ज्ञान आपने प्राप्त किया है हो सकता है की आप उस ज्ञान से कुछ  अच्छी कमाई कर ले , आपकी पर्सनली थोड़ी सी अच्छी हो जाए . लेकिन एक सुंदर जिंदगी जीने के लिए ज्ञानी आप तभी हो सकते हैं जब आपको अध्यात्म का ज्ञान होता है . यह आपकी लाइफ को बहुत ही अच्छे ढंग से बैलेंस कर देता है . 



जब तक जीवन में बैलेंस नहीं रहेगा आप परेशान रहेंगे, और अपने जीवन को बैलेंस करके ही आप एक अच्छा जीवन जी सकते हैं. और अगर जीवन में थोड़ा बहुत मुश्किल भी आ जाती है तो उसे आप हैंडल कर सकेंगे, अध्यात्म का ज्ञान आपको फ्लैक्सेबिलिटी प्रदान करता है सोचने और समझने की तथा निर्णय लेने की . कुछ लोग अध्यात्म के ज्ञान को समझना अपनी शान के खिलाफ समझते हैं. और इसे बताते हैं यार यह सब तो बहुत पुरानी चीजें हैं हम लोग तो काफी मॉडर्न हैं. उन लोगों के लिए मैं यही कहना चाहूंगा कि मॉडर्न होने का मतलब असभ्य , कठोर और अबे व्यवहारिक होना नहीं है . अगर जो चीजें आपको फ्लैक्सिबिलिटी प्रदान करती है तो उसे अपने अंदर लाने में क्या दिक्कत है. 

आपने तो देखा ही होगा कि आंधी के दिनों में अधिकतर पेड़ टूट जाया करते हैं जबकि बांस का पेड़ नहीं टूटता है तो अगर आप ध्यान से देखेंगे तो आंधी जब आती है तो अधिकतर पेड़ वही टूटते हैं जो कठोर होते हैं और बांस का पेड़ जो होता है वह हाईली फ्लैक्सिबल होता है इस वजह से वह आंधी आते समय जोक जाता है तथा टूटने से वह अपने आप को बचा लेता है, 



इसी तरह आपके पास अगर फ्लैक्सिबल नॉलेज है तो मुश्किल के दिनों में आप अपने आप को परेशानियों से बचा लेंगे ठीक उसी तरह जैसे बांस आंधी आने पर अपनी रक्षा कर लेता है. 


यह सब बातें बहुत ही छोटी छोटी होती है लेकिन जिंदगी के लिए बहुत ही फायदेमंद होती है याद रखिएगा की सुई में धागा डालने का जो प्रोसेस है यह सब भी बहुत ही छोटा है लेकिन सुई में धागा डालने के बाद  आप उससे अच्छी खासी कमियों को  पूरा कर सकते हैं अर्थात फटे पुराने चीजों को सीकर अपनी समस्या को कम कर सकते हैं . 



मित्रों मैंने इस आर्टिकल में आप लोगों को बताया कि तो वाकई में रियल नॉलेज है क्या और उसकी हमारी जिंदगी में क्या जरूरत है ? आखिर क्यों हमें अध्यात्मिक विज्ञान को जानने की जरूरत है ? अध्यात्म को जानने का मतलब बाबा या संत होना नहीं है बल्कि या एक तरीका लचीला ज्ञान है जो जीवन को सही मार्गदर्शन देने के लिए यूज़ किया जाता है . इस आर्टिकल में अपना अमूल्य समय देने के लिए आप लोगों का बहुत-बहुत धन्यवाद, इसी तरह की ज्ञानवर्धक जानकारी पाने के लिए आप हमारे दूसरे आर्टिकल को भी पढ़ सकते हैं

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां