HOLI Special Songs /HOLI BHOJPURI SONGS /holi Festival 10 march 2020


holi



 होली भारती हिंदुओं का एक प्रमुख त्यौहार है नाचने गाने हंसी मजाक मौज मस्ती यह सब से परिपूर्ण यह त्यौहार है इस त्यौहार को हिंदुओं में काफी उत्साह के साथ मनाया जाता है  फागुन मास की पूर्णिमा को यह त्यौहार मनाया जाता है अगर देखा जाए तो होली का त्यौहार मार्च महीने में अधिकतर पड़ता है होली के साथ अनेक दंत कथाएं जुड़ी हुई है होली से एक रात पहले होलिका जलाई जाती है जैसे कि मान लीजिए यदि होली 10 मार्च को है तो 9 मार्च की रात को ही होलिका जलाई जाती है और इस दिन खूब पटाखे छोड़े जाते हैं होलिका जलाने का अधिकतर समय 7:00 से 12 pm की बीच होता है उस समय के कई लोग मिलकर होलिका को जलाते हैं और त्यौहार का आनंद उठाते हैं 


इसको हम होली का ट्रेलर समझ सकते हैं क्योंकि मेन होली तो 1 दिन बाद ही होती है अर्थात 10 मार्च को अभी जरूरी नहीं है कि हर बार होली 10 मार्च को ही पड़े लेकिन 2020 में होली 10 मार्च को ही पड़ रही है

जैसे ही होलिका जलने लगती है बच्चे पटाखे छोड़ना शुरू कर देते हैं और मौसम काफी खुशनुमा हो जाता है एक तरफ तेज होलिका जल रही होती है और दूसरी तरफ आकाश में पटाखे फूट रहे होते हैं तो यह सब देखकर बड़ा भव्य नजारा लगता है



गांव देहातों में होलिका दहन काफी मस्त देखने में लगता है क्योंकि वहां का नजारा कुछ और ही होता है वहां लकड़िया की कमी नहीं होती है इसलिए लोग आराम से लकड़िया जुटा लेते हैं और होलिका दहन के दिन होली को जलाते हैं कुल मिलाकर मस्त नजारा रहता है अगर कोई गांव से जुड़ा हुआ होगा तो इस नजारे को जरूर महसूस करता होगा. 



होलिका दहन और पटाखे की आवाज के साथ आपको मधुर ध्वनि भी सुनाई देगी यह मधुर ध्वनि कुछ और नहीं बल्कि होली के गीत ही होते हैं,  यूपी और बिहार जैसे क्षेत्रों में तो होली का भोजपुरी गाना ही खूब बचता है और यह सुनने में काफी मजा देता है.

होली के कुछ पॉपुलर गाने इस प्रकार से है-( HOLI songs ,HOLI Bhojpuri Songs < Holi Filmy Songs )

  • बलम पिचकारी जो तूने मारी 


  • अंग से अंग लगाना बलम 


  • जोगी जी धीरे धीरे 


  • आज ना छोड़ेंगे खेलेंगे बस हम होली 


  • नैन लड़ जहिया  तो मनवा में 


  • रंग बरसे भीगे चुनरवाली 


  • केकरा से लेहब सवाद भतार ahiyan  होली के बाद 

  • कोने कोने बलमा जाला हो बैगनवा के खेत में 


  • होली के ऊपर डालन होली के नीचे डालन 






इसी तरह पुराने गाने, नए गाने और भोजपुरी से रिलेटेड गाने हैं जो काफी लोकप्रिय हैं जहां तक होली के गानों का सवाल है

वैसे तो यह सब गाने होली के दिन यानी जिस दिन रंग लगाने वाली होली होती है उस दिन यह सब गाने सुबह से लेकर रात तक बजते रहते हैं, अपने यूपी और बिहार में तो ऐसा ही ट्रेंड चलता है वैसे हर जगह की होली अलग-अलग होती है लेकिन इतना भी अलग नहीं होती है कि बिल्कुल अलग thalag लगे अब थोड़ा बहुत तो अंतर रहता ही है




होली से रिलेटेड एक पौराणिक कथा यह भी है कि प्रह्लाद के पिता राक्षस राज हिरण्यकश्यप स्वयं को भगवान मानते थे वह भगवान श्री हरि विष्णु के परम विरोधी थे जबकि उनके पुत्र प्रहलाद विष्णु भगवान के परम भक्त थे उनके पिता ने प्रह्लाद को विष्णु भगवान जी का भक्ति करने से जब रोका तब वह नाराज हो गए और प्रह्लाद ने उनकी बात मानने से इनकार कर दिया और कई बार उन्हें मारने का प्रयास किया किंतु वह सफल नहीं हुए 





प्रहलाद के पिता ने तंग आकर अपनी बहन होलिका से सहायता मांगी होलिका अपने भाई की सहायता करने के लिए तैयार हो गई होलिका को आग में जलने का वरदान प्राप्त था इसलिए होलिका प्रहलाद को लेकर चिता में जा बैठी परंतु भगवान श्री हरि विष्णु की कृपा से पहला सुरक्षित बच गए और होलिका जलकर भस्म हो गई 



यह कथा इस बात का संकेत करती है कि बुराई पर अच्छाई की जीत अवश्य होती है आज भी पूर्णिमा को लोग होली जलाते हैं और अगले दिन सब लोग एक-दूसरे पर गुलाल और तरह-तरह के रंग एक दूसरे पर डालते हैं और इस त्यौहार का आनंद उठाते हैं





इस दिन लोग प्रातकाल उठकर रंगों को लेकर अपने रिश्तेदारों और मित्रों के घर जाते हैं और उनके साथ जमकर होली खेलते हैं बच्चों के लिए तो यह त्यौहार विशेष महत्व रखता है वह 1 दिन पहले से ही बाजार से अपने लिए तरह-तरह की पिचकारी और रंग भरे गुब्बारे मंगा लेते हैं बच्चे अबीर गुलाल व पिचकारी से अपने मित्रों के साथ होली का आनंद उठाते हैं सभी लोग बैर भाव इत्यादि भूलकर एक-दूसरे से मिलते हैं घरों में औरतें 1 दिन पहले से ही मिठाई ,गुझिया आदि बनाती है



वह अपने पास पड़ोस में आपस में लेती देती है और होली का आनंद उठाती है कई लोग ढोल, लव , मृदंग आदि बजाकर नाचते गाते हुए होली मनाते हैं गांव में तो होली का अपना ही मजा होता है लोग तो टोलिया बनाकर घर घर जाकर मनाते हैं शहर में कहीं मूर्ख सम्मेलन कहीं कवि सम्मेलन आदि होता है ब्रज की होली को माने तो यह पूरे भारत में मशहूर है वहां की जैसी होली तो पूरे भारत में देखने को आपको  नहीं मिलेगी कृष्ण मंदिर में होली की धूम का अपना ही अलग स्वरुप है ब्रज के लोग राधा के गांव जाकर होली खेलते हैं मंदिर कृष्ण भक्तों से भरा रहता है चारों तरफ गुलाल लहराता रहता है कृष्ण और राधा की जय जय कार करते हुए होली का आनंद लेते हैं आजकल अच्छे रंगों का प्रयोग न करके रासायनिक ले पढ़ो नशे आदि का प्रयोग करके इस की गरिमा को समाप्त किया जा रहा है आज के व्यस्त व्यस्त जीवन के लिए होली चुनौती है इसे मंगलमय रूप देखकर बनाया जाना चाहिए तभी इसका भरपूर आनंद मिल सकेगा 
होली से हमें यह शिक्षा मिलती है कि होली का त्यौहार बुराई पर एक अच्छाई का जीत है



read  more- Holi Quotes IN Hindi !0 March 2020-

Post a Comment

1 Comments

Emoji
(y)
:)
:(
hihi
:-)
:D
=D
:-d
;(
;-(
@-)
:P
:o
:>)
(o)
:p
(p)
:-s
(m)
8-)
:-t
:-b
b-(
:-#
=p~
x-)
(k)