class 10th math study material only for foreigner students (click below and download )




रोज़ गवर्नमेंट जॉब की सुचना पाने के लिए अपना ई-मेल डाले और subscribe पर क्लिक करे

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

free download video study material

Phonetics Science 2019 / Phonetics Science Syllabus / Phonetics Science Salary / Phonetics Science Institute / Phonetics Science Eligibility

Career In Phonetics Science

Phonetics Science 2019 / Phonetics Science Syllabus / Phonetics Science Salary / Phonetics Science Institute /  Phonetics Science Eligibility

 फोनेटिक्स क्या है ( What Is Phonetics Science ) 

 फोनेटिक्स प्रकाश की ऊर्जा से संबंधित तकनीक है या ऑप्टिकल टेक्नोलॉजी और इलेक्ट्रॉनिक्स के संयोजन से मिलकर बनी है भौतिकी की यह उपशाखा प्रकाश की अति सूक्ष्म कण फोटान  के अध्ययन से संबंधित है अगर   इसे आसान  शब्दों में कहा जाए तो यह सूचनाएं पाने  और देने के लिए प्रकाश की उपयोग की आशान तकनीक है फटोनिक्स  प्रकाश की एमिशन , ट्रांसमिशन और माड्यूलेशन से जुड़ी प्रक्रियाओं को समझने का  विज्ञान है

फोटोनिक्स  तकनीक का कार्य (Phonetics Technology )

फोटोनिक्स तकनीक के जरिए सूचनाओं के सिग्नल को प्रकाशित रंगों के रूप में परिवर्तित किया जाता है।  आधुनिक समय में फोटोनिक्स का उपयोग कंप्यूटिंग , सिक्योरिटी और कई तकनीकी कार्यों में होने लगा है इसके साथ साथ इसका प्रयोग चिकित्सा व स्वास्थ्य सेवा, प्रतिरक्षा ,ऑप्टिक्स , इमेजिंग  और इलेक्ट्रॉनिक्स में भी होता है इस तकनीक का प्रयोग एडवांस स्पेक्ट्रोस्कोपी , लेजर माइक्रोस्कोपिक और फाइबर ऑप्टिक्स इमेजिंग के जरिए शोध संबंधी समस्याओं को सुलझाने में भी किया जाता है वर्तमान समय में बायोटेक्नोलॉजी , माइक्रोबायोलॉजी ,विज्ञान सर्जरी और लाइफ साइंस में भी  इसका उपयोग होता है

 योग्यता ( Phonetics Science Eligibility  )


 फोनेटिक्स में स्नातक के लिए  भौतिकी रसायन शास्त्र और गणित विषयों में  50 परसेंट अंकों के साथ 12 वीं पास होना आवश्यक है यदि छात्र के पास यह योग्यता है तो वह फोनेटिक्स एंड  ऑटोमेट्रिक्स के स्नातक कोर्स में दाखिला ले  सकता है अगर छात्र ने भौतिक , रसायन शास्त्र  , गणित अप्लाइड फिजिक्स या  इलेक्ट्रॉनिक्स में स्नातक किया है तो वह फोनेटिक्स या   ऑटोमेट्रिक्स में पोस्ट ग्रैजुएट के लिए आवेदन कर सकता है।  फोनेटिक्स  मे एमटेक और पीएचडी करने की इच्छा रखने वाले छात्रों के पास भौतिकी या फोनेटिक्स  में मास्टर डिग्री होना चाहिए अब कई कॉलेज फोनेटिक्स में डिप्लोमा भी करवा रहे है।  डिप्लोमा करने के बाद छात्र फोनेटिक्स तकनीशियन  बन सकते हैं


 व्यक्तिगत कौशल ( Personal Skill ) 

फोनेटिक्स  में करियर बनाने के लिए छात्र की  विज्ञान  या इससे  संबंधित विषय में दिलचस्पी होना चाहिए  साथ ही सतर्कता भी इस क्षेत्र  की खास निशानी है। इस  क्षेत्र में नई नई गतिविधियां आती रहती है इसके लिए सतर्क रहना आवश्यक है।  साथ ही भौतिकी और गणित पर अच्छी पकड़ होनी चाहिए।  फोनेटिक्स में आने के लिए रचनात्मक भी होना जरूरी है.


 नौकरी की संभावनाएं (  Phonetics Science Job ) 


 पॉलिटिक्स  विशेषज्ञ इंजीनियर या टेक्निशियन के रूप में किसी भी फोनेटिक्स कंपनी में काम कर सकते हैं उन्हें किसी भी यूनिवर्सिटी या  सरकारी ऑफिस  में भी आसानी से  नौकरी मिल सकती है।  वे  विशेषज्ञ वैज्ञानिक के तौर पर काम कर सकते हैं।  इन वैज्ञानिकों का काम फोनेटिक्स पर शोध करना होता है।  इनफॉर्मेटिक्स इंजीनियर का काम उपकरन   डिजाइन करना होता है।  फोनेटिक्स  टेक्निशियन ,इंजीनियरों को डिजाइनिंग और मैन्युफैक्चरिंग में मदद करते हैं।  फोनेटिक्स इंजीनियर चाहे तो किसी अनुभवी इंजीनियर के सहायक ग्रुप में करियर शुरू कर सकते हैं। योग्यता और अनुभव  के आधार पर आगे चलकर वे  रिसर्च डायरेक्टर या प्रिंसिपल इंजीनियर भी बन सकते हैं

 किन क्षेत्रों में है नौकरी

 सेमीकंडक्टर टेक्नोलॉजी

 फाइबर एंड इंटीग्रेटेड ऑप्टिक्स

 आप्टोइलेक्ट्रॉनिक्स एंड सॉफ्टवेयर

 शोध व विकास में जुड़े संस्थान

 मीटिरियोलॉजिकल डिपार्टमेंट

  यूनिवर्सिटी और कॉलेज

 वेतन ( Phonetics Science Salary)

इस  क्षेत्र में आने के बाद शुरुआती वेतन 25000 से लेकर ₹45000 मासिक पर मिलती है। विदेशो में तो इस  क्षेत्र में बहुत अच्छा वेतन मिलता है जैसे अमेरिका कनाडा ब्रिटेन इत्यादि देशों में लाखों के पैकेज होता है वही भारत में भी इसका पैकेज बहुत अच्छा है , भारत में योग्य फोटोनिक्स रिसर्च और वैज्ञानिक का वेतन कम से कम २००००० रुपये है 

 प्रमुख संस्थान ( Phonetics Science  Top Institute )

 आईआईटी मुंबई

 आईटी नई दिल्ली

 आईटी चेन्नई

 मणिपाल इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी कर्नाटक

 द इंटरनेशनल स्कूल आफ फोनेटिक्स केरल

 राजारमन सेंटर  for टेक्नोलॉजी इंदौर

 इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस बेंगलुरू

 भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर मुंबई

No comments:

Post a Comment