दसवीं के बाद Petroleum Engineering, Job Career, Salary and Education Information

 आज भी इंजीनियरिंग गांव की पहली पसंद बनी हुई है क्योंकि इंजरिंग के बाद सरकारी  कंपनियों में कैरियर के कई विकल्प खुल जाते हैं इंजरिंग की बेहद प्रसिद्ध स्ट्रीम के अलावा कुछ और भी  स्ट्रीम है जिनमें अच्छा भविष्य है इनमें से ऐसी ही एक स्ट्रीम  है पैट्रोलियम इंजीनियरिंग की , पैट्रोलियम इंजीनियरिंग उसकी ऐसी शाखा है जो हाइड्रोकार्बन जैसे कच्चे तेल  या प्राकृतिक गैस के उत्त्पादन  के अध्ययन से संबंधित है पेट्रोलियम इंजीनियर पैट्रोलियम तेल और गैस के उत्पादन और खोज से संबंधित कार्य करते हैं इंडस्ट्री  पेट्रोलियम इंडस्ट्री विशेषकर तेल की खोज , ट्रांसपोर्ट और मशीनरी ड्रिलिंग प्रोडक्शन , रिज़र्व  मैनेजमेंट जैसे अलग-अलग क्षेत्र में संबंध रखती है इस क्षेत्र में करियर काफी आकर्षक और चुनौतीपूर्ण है इस समय भारत में लगभग 1600000 से अधिक लोग प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से इस क्षेत्र से जुड़े हैं भारत की पेट्रोलियम  इंडस्ट्री के अलावा यहां के पैट्रोलियम इंजीनियर को  विदेशों में भी काफी संख्या में काम कर रहे हैं। पेट्रोलियम इंजीनियर को  फिजिक्स  , केमिस्ट्री मैकेनिकल इंजीनियरिंग, जियोलॉजी और इकनॉमिक्स का ज्ञान होना जरूरी है


Petroleum Engineering, Job Career, Salary and Education Information




काबिल इंजीनियर की है जरूरत

पेट्रोलियम ऊर्जा का मुख्य स्रोत है जिसका 21वीं सदी में बड़े स्तर पर उपयोग किया जाता है पेट्रोलियम उत्पादों की मांग लगातार बढ़ती जा रही है पेट्रोलियम उत्पादों की बढ़ती मांग को कैसे पूरा करा जाए यह  प्रश्न आज पूरी दुनिया के लिए चिंता का विषय बना हुआ है इसलिए यह प्रयास  किया जा रहा है कि ज्यादा से ज्यादा पेट्रोलियम उत्पादों की तलाश की जाए , जिससे पेट्रोलियम उत्पादन को बढ़ाया जा सके पेट्रोलियम  उत्पादों की
तलाश करने के लिए कुशल लोगों की जरूरत पड़ रही है , जो इस क्षेत्र में कृषक जानकारी रखते हैं इसलिए
peट्रोलियम इंजीनियरों की जरूरत होती है


शैक्षणिक योग्यता

अन्य इंजीनियरिंग ब्रांच इसकी की ही तरह इसमें भी  ऐडमिशन के लिए आपके पास 12वीं में फिजिक्स , केमेस्ट्री , मैथ , बायोलॉजी विषय होनी चाहिए। पेट्रोलियम इंजीनियरिंग के बी.इ / बी.टेक  कोर्स में एडमिशन के लिए एंट्रेंस टेस्ट का आयोजन होता है।
पेट्रोलियम इंजीनियरिंग  करने के लिए जी जैसी परीक्षा या फिर सम्बंधित संस्थान की प्रवेश परीक्षा उत्तरीन करना आवश्य्क है  यह कोर्स  4 वर्ष का होता है इसमें डिप्लोमाँ  कोर्स भी किया जा सकता है  . कुछ संस्थानों में एडमिशन 12वीं के अंक के आधार पर भी होता है पेट्रोलियम इंजीनियरिंग में एमटेक करने के लिए केमिकल या पैट्रोलियम इंजीनियरिंग में

बीटेक भी होना चाहिए पैट्रोलियम इंजीनियरिंग में एमएससी की डिग्री भी हासिल की जा सकती है


 आमदनी की आकर्षक राह 

पैट्रोलियम इंजीनियरिंग आमतौर पर कम ही छात्र करते हैं इसलिए इस सीमित क्षेत्र की आवश्यकता की पूर्ति के लिए जितने पैट्रोलियम इंजीनियर की आवश्यकता होती है वह भी उपलब्ध नहीं हो पाते हैं इसलिए इन्हे अच्छे वेतन पर आकर्षक रोजगार देने के लिए  पेट्रोलियम कंपनियां हमेशा तैयार रहती है।  इंजीनियर का औसत वेतन ₹800000 प्रति वर्ष तक होता है कार्यक्षेत्र का अनुभव आय पर जोरदार प्रभाव डालता है और जैसे-जैसे
अनुभव पड़ता है आय  में इजाफा होता है

अवसरों  का भंडार

पैट्रोलियम इंजीनियरिंग में देश-विदेश दोनों ही में बहुत अच्छी संभावनाएं हैं कोर्स क्र लेने के बाद सपोर्ट
इंजीनियर जिओ साइंस प्रेशर एक्सपर्ट ,  सीनियर पेट्रोफिजिसिस्ट, प्रोसेस इंजीनियर के पद पर प्रसिद्ध कंपनियों और संगठनों जैसे आयल इंडिया लिमिटेड एस्सार आयल लिमिटेड हिंदुस्तान ऑयल एक्सप्लोरेशन कंपनी लिमिटेड हिंदुस्तान पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया एंड नेशनल गैस कमीशन रिलायंस पेट्रोलियम इंडस्ट्रीज भारत पैट्रोलियम आदि में जॉब   की तलाश की जा सकती है इसके अलावा आयल एक्सप्लोरेशन ऑर्गेनाइजेशन पैट्रोलियम एंड आयल कंपनी



रिफायनरी प्राइवेट आयल इंडस्ट्रीज गैस कंपनीज यूनिवर्सिटी पैट्रोलियम रिसर्च इंस्टीट्यूट में भी रोजगार के काफी अवसर हैं के बाद सफल करियर के अलावा रिसर्च के क्षेत्र में भी मौके हैं







प्रमुख संस्थान


  •  स्कूल आफ पैट्रोलियम मैनेजमेंट गांधीनगर
  • इंडियन स्कूल ऑफ माइंस धनबाद
  • महाराष्ट्र इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी पुणे
  • राजीव गांधी इंस्टीट्यूट आफ पैट्रोलियम टेक्नोलॉजी रायबरेली
  • उत्तरांचल इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी देहरादून स्टार्टअप इंडिया
  • इसके अलावा आयल एक्सप्लोरेशन ऑर्गेनाइजेशन पैट्रोलियम एंड आयल कंपनी
  • रिफायनरी प्राइवेट आयल इंडस्ट्रीज गैस कंपनीज यूनिवर्सिटी पैट्रोलियम रिसर्च
  • इंस्टीट्यूट में भी रोजगार के काफी अवसर हैं के बाद सफल करियर के अलावा

Post a Comment

0 Comments