study at night /रात में पढ़ाई करने के फायदे /दसवीं के बाद /Night Study

नमस्कार दोस्तों आर्टिकल में आपका स्वागत है, इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि रात में पढ़ने के क्या फायदे हैं और इस पढ़ाई की मदद से हम ज्यादा से ज्यादा मार्क्स कैसे पा सकते हैं. क्या वाकई में रात में पढ़ना फायदेमंद है या नुकसान दे है, इस तरह की तमाम बातों का उत्तर हम अपने इस पोस्ट में जानेंगे, इसलिए आप सभी पाठक भाई-बहनों से यह निवेदन है कि यह पोस्ट आप शुरू से लेकर अंत तक पढ़ते रहे ताकी जानकारी का कोई भी हिस्सा छूट न जाए , क्योंकि छोटी-छोटी जानकारियां ही आपको मंजिल तक पहुंचाती है.
study at night /रात में पढ़ाई करने के फायदे /complete the syllabus
रात में पढ़ाई करने के फायदे- रात में पढ़ाई करने के कई फायदे हैं जो इस प्रकार से हैं
1. शोरगुल से बचाव- दिन में अगर बहुत ज्यादा शोर शराबा होता है अगर ऐसी जगहों पर आप रहते हैं , तो ऐसी हालत में रात में ही पढ़ाई करना ही सही होगा , क्योंकि शोर शराबा में अच्छी तरह से पढ़ाई लिखाई नहीं हो पाती है, दिमाग भंग होता है, और पढ़ाई से ध्यान बिल्कुल हट जाता है. कभी-कभी तो दिमाग में चिड़चिड़ापन भी बढ़ता है, क्योंकि आप अपने दिमाग को एक डायरेक्शन में ले जाना चाहते हैं, जबकि ध्वनि प्रदूषण की आवाज आपको पढ़ने से रूकती है . इसलिए रात में पढ़ाई करना ही उचित होगा
2. दिमाग का कंसंट्रेशन- चुकी हम दिन भर पढ़ते रहते हैं, खेलते रहते हैं कूदते रहते हैं , इसलिए हमारे शरीर की मांसपेशियां थक जाती है, जिससे हमारा दिमाग भी थक जाता है, इसलिए कोशिश यही करें कि शाम को थोड़ा सा नींद ले ले उसके बाद जब जागे तो पढ़ाई करना शुरू कर दे, नींद लेने से फायदा यह होगा की आपको भरपूर ऊर्जा मिल जाएगी आपकी थकावट भी दूर हो जाएगी, और आपका दिमाग पढ़ने के लिए राजी हो जाएगा. तू 8:00 बजे के बाद या 9:00 बजे के बाद जब भी आपका नींद खुल जाए तो उसके बाद रात की पढ़ाई के लिए बैठ जाए , और तब तक पढ़ते रहे जब तक आप को नींद ना आ जाए, चुकी आपने अभी नींद लिया है भरपूर इसलिए आपको नींद जब भी आएगी वह 3 या 4 घंटे बाद ही आएगी . इसलिए आप आसानी से अपना पाठ्यक्रम पढ़ सकते हैं और उन्हें अच्छी तरह से पूरा कर सकते हैं
3 . जल्दी से कोर्स पूरा करना- रात की जो पढ़ाई होती है वह जल्दी से कोर्स पूरा करने के लिए काफी उपयुक्त मानी जाती है, दिन की 5 घंटे की पढ़ाई रात की 2 घंटे की पढ़ाई के बराबर होती है. क्योंकि दिन की पढ़ाई में अवरोध आता है जबकि रात की पढ़ाई में किसी प्रकार का कोई अवरोध नहीं आता है
4 . रात की पढ़ाई में थकावट दूर करने के लिए आप चाय या कॉफी का भी सहारा ले सकते हैं, चाय में मौजूद कैफीन के तत्व मां को आराम पहुंचाते हैं इसे आप की पढ़ने की इच्छा बढ़ जाती है, कॉफी में कैफीन की मात्रा चाय की तुलना में ज्यादा होती है , इसलिए आप इसका भी यूज कर सकते हैं .
5 . रात में नई सिलेबस को पढ़ने के बाद अगर आपको थकावट महसूस होने लगे , पढ़ने का मन न करें तो उस समय रिवीजन करना शुरू कर दे , क्योंकि रिवीजन एक ऐसी चीज है जिसे करने में किसी भी छात्र को बहुत ही मजा आता है , रिवीजन करने से आपको उपलब्धि का एहसास होता है. जो कि किसी भी छात्र की मेंटल सेटअप के लिए बहुत ही अच्छा है
कंक्लुजन ( conclusion) - रात में पढ़ाई करना काफी फायदेमंद है, लेकिन यह डिपेंड करता है कि वह छात्र रात की पढ़ाई के लिए उत्सुक है या नहीं, क्योंकि हर इंसान का दिमाग अलग अलग होता है, वास्तव में दिमाग तो एक ही होता है लेकिन सोचने की प्रक्रिया अलग अलग होती है, इसलिए अगर कोई विद्यार्थी रात के बजाय दिन में पढ़ना पसंद करता है तो उसे दिन में ही पढ़ना चाहिए, वहीं अगर किसी विद्यार्थी को रात में पढ़ना पसंद है तो उसे रात में ही पढ़ना चाहिए, अगर किसी को रात और दिन दोनों का मिक्स इफेक्ट लेकर पढ़ना पसंद है तो उसे उसी ही टाइम फॉर्मेट में पढ़ना चाहिए , जबरदस्ती देखी देखा शेड्यूल नहीं फॉलो करना चाहिए, क्योंकि इससे फायदा कम और नुकसान बहुत ज्यादा हो जाता है,
इस पोस्ट में अपना बहुमूल्य समय देने के लिए आप लोगों का बहुत बहुत धन्यवाद, करियर से जुड़ी जानकारी पाने के लिए इस वेबसाइट पर हमेशा विजिट करते रहे धन्यवाद.

Post a Comment

0 Comments